Jama Masjid in Hindi
Contents hide

About Jama Masjid in Hindi

देश की राजधानी नई दिल्ली में चांदनी चौक पर स्थित जामा मस्जिद भारत की सबसे बड़ी मस्जिदों में से एक है। पुरानी दिल्ली में बनी यह भव्य मस्जिद मुगल शासक शाहजहाँ की इस्लामी वास्तुकला का एक शानदार उदाहरण है। चावड़ी बाजार रोड पर कई एकड़ में फैली यह मस्जिद राजधानी दिल्ली के मुख्य आकर्षणों में से एक है।

जामा मस्जिद दिल्ली का इतिहास – History of Jama Masjid in Hindi

jama masjid
Jama Masjid in Hindi

भारत की सबसे बड़ी मस्जिद दिल्ली की जामा मस्जिद है, जिसे मुगल बादशाह शाहजहाँ ने 1656 ई. में बनवाया था। इतिहास कहता है कि 5,000 कारीगरों ने शाहजहाँनाबाद में भोजल पहाड़ी पर मस्जिद-ए-जहाँ नुमा या जामा मस्जिद का निर्माण किया था। यहां के प्रांगण में 25 हजार लोग एक साथ नमाज अदा कर सकते हैं।

मस्जिद का उद्घाटन 23 जुलाई 1656 को शाहजहाँ के निमंत्रण पर उज़बेकिस्तान के बुखारा के मुल्ला इमाम बुखारी ने किया था। यह मस्जिद मुग़ल बादशाह शाहजहाँ की आखिरी बहुत महंगी खर्चीली वास्‍तुकलाओं में से एक थी। शाहजहां ने दुनिया के सात अजूबों में शामिल आगरा का ताजमहल और दिल्ली का लाल किला भी बनवाया था।

Also Read:- Uranus Planet in Hindi

Also Read:- Chetan Bhagat Books in Hindi

मस्जिद में 11 मेहराब बने हैं।

बलुआ पत्थर और सफेद संगमरमर से बनी इस मस्जिद में चार द्वार हैं। मस्जिद में उत्तर और दक्षिण द्वार से प्रवेश किया जा सकता है। जबकि, पूर्वी द्वार सिर्फ शुक्रवार को ही खुलता है। इस द्वार के बारे में कहा जाता है कि बादशाह शाहजहां इसी द्वार से प्रवेश किया करते थे। इसमें 11 मेहराब हैं, जिनमें से बीच का मेहराब बाकी मेहराबों से थोड़ा बड़ा है। इसके ऊपर बने गुंबदों को सफेद और काले संगमरमर से सजाया गया है, जो निजामुद्दीन दरगाह जैसा दिखता है। साल 1948 में हैदराबाद के निजाम मीर उस्मान अली खान ने भी इसकी मरम्मत के लिए 3 लाख रुपये दिए थे।

जामा मस्जिद 1200 वर्ग मीटर में फैला हुआ है। 

यह मस्जिद 1200 वर्ग मीटर में फैला हुआ है।, जिसमें करीब 25000 लोग एक साथ बैठकर नमाज पढ़ सकते हैं। इस मस्जिद में दो मीनारें और तीन गुम्बद हैं। इसकी प्रत्येक मीनार की ऊंचाई 41 मीटर है। वहीं, गुम्बद की लंबाई 80 मीटर और चौड़ाई 27 मीटर है। दिल्ली के बेहतरीन पर्यटन स्थलों में से एक जामा मस्जिद भी राज्य की खूबसूरती में चार चांद लगाती है।

जामा मस्जिद जाने के लिए प्रवेश शुल्क – Entry Fee of Jama Masjid Delhi In Hindi

दिल्ली में स्थित जामा मस्जिद जाने के लिए आपको कोई एंट्री फीस देने की जरूरत नहीं है, आप बस वहां जाकर घूम सकते हैं। लेकिन अगर आप फोटोग्राफी करना चाहते हैं जामा मस्जिद में आपको फोटोग्राफी के लिए ₹200 से ₹300 तक चार्ज देना पड़ सकता है।

जामा मस्जिद जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Jama Masjid Delhi In Hindi

दिल्ली में स्थित जामा मस्जिद अगर आप घूमने का प्लान बना रहे हैं तो आपको बता दें कि इस जामा मस्जिद में ईद और रमजान के महीने जैसे यहां आयोजित होने वाले त्योहारों के दौरान काफी भीड़ देखी जाती है। आपको बता दें कि आप यहां साल भर में कभी भी आ सकते हैं, लेकिन नमाज के वक्त आपको जामा मस्जिद में जाने की एंट्री नहीं दी जाती है।

जामा मस्जिद के खुलने और बंद होने का समय – Jama Masjid Delhi Open Timings In Hindi

पर्यटक सप्ताह के सभी दिनों में सुबह 7 बजे से दोपहर 12 बजे तक और दोपहर 1:30 बजे से शाम 6:30 बजे तक मस्जिद में जा सकते हैं।

अगर आप जामा मस्जिद आए हैं तो मीना बाजार में खरीदारी जरूर करें

अगर आप जामा मस्जिद गए हैं तो उसके पास स्थित मीना बाजार की तंग गलियों में भी जरूर घूमें। यह एक ऐसी जगह है जहां आप अपने लिए कुछ बेहतरीन चीजें बड़ी आसानी से खरीद सकेंगे। टोपी से लेकर आरामदायक और गर्म रजाई तक, मीना बाजार में आपको सब कुछ मिल जाएगा। यह बाजार सुबह 11:30 बजे से शाम 6 बजे तक खुला रहता है। हालांकि रविवार के दिन यहां न आएं, क्योंकि रविवार को मीना बाजार बंद रहता है।

नई सड़क से पुस्तकें खरीदें – Nai Sarak Book Market

यदि आप उन लोगों में से हैं जो किताबें पढ़ना और खरीदना पसंद करते हैं, तो आपको भी जामा मस्जिद से कुछ ही दूरी पर स्थित नई सड़क में समय बिताना चाहिए। यहां आपको पुरानी किताबें और नई किताबें बेहद सस्ते दामों पर मिल जाएंगी। यह अक्सर बहुत हलचल भरा होता है और इसलिए आपको अपनी पसंद की किताब खोजने में थोड़ी मशक्कत करनी पड़ सकती है। यहां आपको विभिन्न स्टेशनरी आइटम भी मिल जाएंगे। ध्यान दें कि यहां भी रविवार को बाजार बंद रहता है।

दिल्ली में स्थित जामा मस्जिद से जुड़े तथ्य –

  • दिल्ली में स्थित जामा मस्जिद का निर्माण शाहजहाँ ने 1956 में करवाया था।
  • दिल्ली की जामा मस्जिद लाल बलुआ पत्थर और सफेद संगमरमर से बाना है।
  • इस मस्जिद के बारे में बताया जाता है कि यहां करीब 2500 लोग एक साथ बैठकर नमाज पढ़ सकते हैं।
  • मस्जिद को बनने में 12 साल लगे और करीब 5000 लोगों ने मिलकर इसे बनाया और इसमें 10 लाख रुपए खर्च हुए।
  • दिल्ली की जामा मस्जिद भारत की सबसे बड़ी मस्जिद में से एक है।

Also Read : Essay on Rainy Season in Hindi

Also Read: 7 Wonders of the World Names in Hindi

जामा मस्जिद से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q1. जामा मस्जिद प्रसिद्ध क्यों है?

जामा मस्जिद भारत में सबसे प्रसिद्ध मस्जिदों में से एक है। इसका निर्माण 1644 और 1658 के बीच हुआ। यह सम्राट शाहजहाँ द्वारा बनवाई गई थी, और यह उनका अंतिम निर्माण है। यह मुस्लिम समुदाय का प्रमुख धार्मिक स्थल है।

Q2. जामा मस्जिद का असली नाम (real name) क्या है?

पूरी दुनिया में जामा मस्जिद के नाम से मशहूर इस मस्जिद का असली नाम मस्जिद-ए-जहांनुमा है।

Q3. कौन सी मस्जिद भारत की सबसे बड़ी मस्जिद है?

भारत की सबसे बड़ी मस्जिद शाहजहाँ के द्वारा निर्मित दिल्ली में स्थित जामा मस्जिद है।

Q4. भारत का ऐसा कौन सा शहर है जहाँ कोई मस्जिद नहीं है?

चूरू जिले लांबा का ढाणी गांव शायद देश का इकलौता ऐसा गांव है, जहां न तो मंदिर है और न ही मस्जिद।

निष्कर्ष

अगर आपको jama masjid in hindi में दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और अगर आपका कोई सुझाव है तो कृपया नीचे कमेंट बॉक्स में करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *