MCD Full Form In HindiMCD Full Form In Hindi

MCD Full Form In Hindi

आज के इस आर्टिकल में हम दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) के बारे में चर्चा करने वाले हैं जिसमें हम लोग एमसीडी से संबंधित बहुत सारे विषयों पर बात करेंगे कि MCD Full Form in Hindi, What is MCD in Hindi, MCD Full Form, MCD Kya Hai, MCD का Full Form क्या हैं, MCD का फुल फॉर्म क्या है, Full Form of MCD in Hindi, What is MCD, MCD किसे कहते है, MCD का फुल फॉर्म इन हिंदी, MCD का पूरा नाम और हिंदी में क्या अर्थ होता है, MCD की शुरुआत कैसे हुई?.. 

एमसीडी का फुल फॉर्म “दिल्ली नगर निगम (Municipal Corporation of Delhi)” होता है। दिल्ली नगर निगम(एमसीडी) भारत की राजधानी और केंद्र शासित प्रदेश दिल्ली का नगर निगम है जिसके अंतर्गत दिल्ली के 11 जिलों में से 8 जिलों में एमसीडी का शासन चलता है। भारत की राजधानी दिल्ली में 3 नगर पालिका परिषद है जिनमें से एक है दिल्ली नगर निगम(एमसीडी), और दूसरी नगर परिषद है नई दिल्ली नगर परिषद और तीसरे नगर परिषद का नाम दिल्ली छावनी बोर्ड है। आइए अब हम दिल्ली नगर निगम(एमसीडी) के बारे में विस्तार से बात करते हैं.. 

MCD Full Form in Hindi

MCD की फुल फॉर्म म्युनिसिपल कारपोरेशन ऑफ दिल्ली(Municipal Corporation Of Delhi) होती है। एमसीडी को हिंदी भाषा में दिल्ली नगर निगम कहा जाता है।  

M: Municipal

C: Corporation of

D: Delhi 

MCD के अन्य फुल फॉर्म — 

  • MCD Full Form Hindi in Census & Statistics — Minor Civil Division
  • MCD Meaning Hindi (सरकारी) — माइनर सिविल डिवीजन 
  • MCD Full Form Hindi in NYSE Symbols — McDonald’s 
  • MCDONALD Meaning Hindi (व्यवसाय) — मैकडॉनल्ड्स(एक प्रसिद्ध फास्ट फूड की कंपनी है) 

दिल्ली नगर निगम(एमसीडी) क्या है — What Is MCD In Hindi

दिल्ली नगर निगम(एमसीडी) एक शहर व नगर निगम है जिसके अधीन दिल्ली के कुल नौ जिलों को संचालन किया जाता है। एमसीडी दिल्ली में कार्य करने वाले तीन नगर पालिकाओं में से एक है जिनमें से एक है नई दिल्ली नगरपालिका और दूसरी नगर पालिका दिल्ली छावनी बोर्ड है। पूरे विश्व में दिल्ली नगर निगम(एमसीडी) एक सबसे बड़ी नगरपालिका संगठन है जिसके अंतर्गत लगभग 137.80 लाख आम नागरिकों को राजकीय सेवाएं प्रदान की जाती है। 

दिल्ली नगर निगम (MCD) वह नगर निगम है जो भारत के अधिकांश दिल्ली के क्षेत्र को नियंत्रित करती है। दिल्ली नगर निगम(एमसीडी) को 2012 में तीन नए निकायों — उत्तरी दिल्ली नगर निगम, दक्षिणी दिल्ली नगर निगम और पूर्वी दिल्ली नगर निगम द्वारा प्रतिस्थापित किया गया था लेकिन एमसीडी के तीनों निकायों को 22 मई 2022 में फिर से एक कर दिया गया। दिल्ली नगर निगम दुनिया की सबसे बड़ी नगर निकायों में से एक है जोकि राजधानी शहर के 11 मिलियन से भी ज्यादा की आबादी में आम नागरिकों को सरकारी सेवाएं प्रदान करती है। 

दिल्ली नगर निगम(एमसीडी) राजकीय राजधानी दिल्ली क्षेत्र के नगर पालिका में से एक है जिनमें से एक है नई दिल्ली नगर परिषद और दूसरे परिषद का नाम दिल्ली छावनी बोर्ड है। दिल्ली में बनी एमसीडी का क्षेत्र  1,397.3 किमी² (539.5 मील²) की सतह पर फैली हुई है। 

भारत देश कि राजधानी दिल्ली क्षेत्र को तीन नगर निगमों द्वारा संचालित किया जाता है — 

1- नई दिल्ली म्युनिसिपल काउंसिल(एनडीएमसी)

2- दिल्ली म्युनिसिपल कारपोरेशन(एमसीडी)

3- दिल्ली कैंटोनमेंट बोर्ड(डीसीबी)

साल 2012 में दिल्ली नगर निगम(एमसीडी) को तीन और हिस्सों में बांट गया — 

1- उत्तरी दिल्ली म्युनिसिपल कारपोरेशन 

2- दक्षिणी दिल्ली म्युनिसिपल कारपोरेशन 

3- पूर्वी दिल्ली म्युनिसिपल कारपोरेशन और 

राजधानी दिल्ली में कुल 17 विधानसभा है जिसमें से 68 एमसीडी के अंतर्गत आते हैं। एलसीडी में आने वाले 68 विधानसभा क्षेत्रों को 4 म्युनिसिपल वार्ड में बांटे गए हैं(104,104,64) New Delhi Municipal council एकमात्र निगम है जिसमें चुनाव कभी नहीं होता है

पूरे MCD क्षेत्र को 12 क्षेत्रों में बांटा गया है — 

  • केंद्रीय
  • शहर एस.पी.
  • सिविल लाइन
  • करोल बाग
  • केशवपुरम
  • नजफगढ़
  • नरेला
  • रोहिणी
  • शाहदरा नार्थ
  • शाहदरा साउथ
  • दक्षिण
  • पश्चिम

एमसीडी के प्रमुख कार्य क्या क्या है —  What Are The Main Works Of MCD

दिल्ली नगर निगम (MCD) के अधीन में बहुत तरह के काम किए जाते हैं जैसे – सार्वजनिक स्थानों की देखरेख करना और विकास करना, परिवहन सेवा देना, स्वच्छता की सुविधाएं देना, स्कूल और कॉलेज का संचालन करवाना, स्वास्थ्य से जुड़ी सुविधाएं, टाउन प्लानिंग, जनता से कर वसूली करना आदि..।। 

नगर पालिका के स्रोत क्या हैं?

नगर परिषद के राजस्व के स्रोत नीचे उल्लिखित किया गया हैं— 

  • पानी, घरों, बाजारों और वाहनों पर कर
  • राज्य सरकार से अनुदान
  • शिक्षा पर कर
  • विशिष्ट प्रयोजन के लिए कृषि भूमि पर कर
  • व्यावसायिक कर

दिल्ली नगर निगम कैसे काम करता है — How The Municipal Corporation Of Delhi Works 

दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) लगभग 11 मिलियन से भी अधिक लोगों की सेवा करने वाली सबसे बड़े नगर निगम निकायों में से एक है और दिल्ली के आम जनता के लिए बुनियादी नागरिक सेवाओं की पूर्ति करता है। साल 1958 में दिल्ली संसद के एक विशेष अधिनियम के अंतर्गत भारतीय नगर निगम का एक स्वतंत्र निकाय का गठन किया गया और साल 1993 में इस अधिनियम में संशोधन करते हुए एमसीडी में तय किए गए प्रावधानों और नियमों में बहुत तरह से बदलाव किए गए जिसके फलस्वरूप दिल्ली नगर निगम के प्रशासन को विकेंद्रीकृत किया जा सकता था। 

दिल्ली नगर निगम की देखरेख मेयर साहब करते हैं। कुछ समय पहले दिल्ली नगर निगम के निर्वाचित महापौर अरुणा आसफ अली जी थे और इन से भी पहले एमसीडी पद पर लाला हंसराज गुप्ता ने काम किया और वर्तमान समय में दिल्ली नगर निगम के प्रमुख मेयर के तौर पर रविंद्र गुप्ता काम करते हैं जिनके वर्तमान समय में 272 सदस्य हैं। 

दिल्ली नगर निगम का मुख्यालय एमसीडी सिविक सेंटर नई दिल्ली में मिंटो रोड पर स्थित है। दिल्ली नगर निगम का मुख्यालय बहुत विशाल जगहों पर बना है और एमसीडी की इमारत में बहुत बड़ी है जिसके वजह से संपूर्ण इमारत में कुल 28 मंजिलें हैं और पार्किंग के लिए तीन बेसमेंट स्तर भी बनाए गए हैं। 

एमसीडी डिवीजन 

दिल्ली नगर निगम को दिल्ली के मुख्य क्षेत्रों के अनुसार निम्नानुसार भागो में विभाजित किया गया है — 

उत्तरी दिल्ली नगर निगम: इस नगर निगम के अंतर्गत उत्तर और उत्तर-पश्चिम दिल्ली और मध्य दिल्ली के सभी क्षेत्रों को शामिल किया जाता है। 

दक्षिण दिल्ली नगर निगम: दक्षिण दिल्ली नगर निगम के अंतर्गत दक्षिण और दक्षिण-पश्चिम दिल्ली और पश्चिमी दिल्ली के अधीन आने वाले सभी क्षेत्र इसमें शामिल हैं। इसमें केवल दिल्ली कैंट क्षेत्र को शामिल नहीं किया जाता है। 

पूर्वी दिल्ली नगर निगम: पूर्वी दिल्ली नगर निगम के अंतर्गत उत्तर पूर्व और पूर्वी दिल्ली के क्षेत्र आते हैं। 

इसके अलावा दिल्ली नगर निगम के अंतर्गत पांच प्रमुख विभाग भी है, जो कि इस प्रकार है — स्वास्थ्य, इंजीनियरिंग, शिक्षा, सीएसई (सफाई विभाग) और जेजे और स्लम विभाग

एमसीडी की महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां क्या क्या है — What Are The Important Responsibilities Of MCD 

  • एमसीडी की मुख्य कार्य स्वास्थ्य विभाग बीमारियों की रोकथाम करना, सुरक्षा करना और स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं को बढ़ावा देना है। 
  • दिल्ली नगर निगम सार्वजनिक शौचालयों, इंजीनियरिंग विभाग सड़कों और सार्वजनिक परिवहन जैसे सार्वजनिक बुनियादी ढांचे के निर्माण और रखरखाव की जिम्मेदारी लेता है। 
  • एमसीडी के अधीन शिक्षा विभाग को स्कूलों और कॉलेजों जैसे शिक्षा के बुनियादी ढांचे के निर्माण और शिक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने का काम किया जाता है। 
  • दिल्ली नगर निगम ने सार्वजनिक स्वच्छता, सीवरेज के रखरखाव और कचरे के निपटान की जिम्मेदारी सीएसई विभाग को दे दी है और दिल्ली के स्लम क्षेत्रों के विकास के लिए स्लम और जेजे विभाग की स्थापना किया गया है। इसी तरह से दिल्ली के रखरखाव और विकास के लिए एलसीडी के अधीन कार्य को संचालित कराने के लिए 5 अलग-अलग विभाग बनाए गए हैं। 
  • दिल्ली नगर निगम के सदस्यों की की नियुक्ति चुनाव के आधार पर हर 5 साल में किया जाता है। एमसीडी के सदस्य का चुनाव भारत के चुनाव आयोग के अधीन होता है। एमसीडी में पिछले 10 साल से बीजेपी पार्टी का राज चल रहा है। 
  • वर्तमान समय में दिल्ली नगर निगम के द्वारा अब जन्म और मृत्यु के पंजीकरण, पशु चिकित्सा के लाइसेंस के लिए आवेदन करने, फैक्ट्री लाइसेंस के लिए आवेदन करने, संपत्ति कर रिटर्न भरने और सूचना का अधिकार अधिनियम के तहत जानकारी प्राप्त करने के लिए ऑनलाइन सेवाएं प्रदान कराया जा रहा है। 
  • आम जनता के देखभाल और उनके बेहतर जीवन के लिए दिल्ली नगर निगम समाज को नागरिक सेवाएं प्रदान कर रही है और दिल्ली के जनताओं के लिए लगातार काम भी किया जा रहा है। 

नगर निगम दिल्ली(एमसीडी) मे जॉब कैसे करें — How to do job in Municipal Corporation of Delhi(MCD) 

अगर आप दिल्ली नगर निगम(एमसीडी) में काम करना चाहते हैं और एमसीडी में जॉब पाने से संबंधित आप जानकारी खोज रहे हैं तो आप बिल्कुल सही जगह पर है क्योंकि इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि एमसीडी में जॉब करने के लिए किन किन बातों का ध्यान रखना होता है और एमसीडी में जॉब पाने के लिए क्या-क्या योग्यताएं की जरूरत पड़ती है तथा एमसीडी में सैलरी कितनी मिलती है? इन सभी प्रश्नों का जवाब आपको नीचे की पंक्तियों में मिल जाएगा.. 

Application Fee (आवेदन शुल्क): नगर निगम दिल्ली(एमसीडी) में जब आप जॉब के लिए आवेदन करते हैं तो आपसे कोई भी शुल्क नहीं लिया जाता है। 

AGE LIMIT (आयु सीमा): नगर निगम दिल्ली(एमसीडी) में प्रासंगिक पद के जॉब के लिए उम्मीदवारों की आयु 18 वर्ष से 30 वर्ष के बीच होनी चाहिए। 

Educational Qualifications (शैक्षणिक योग्यता): नगर निगम दिल्ली(एमसीडी) में अगर आप वार्ड बॉय का जॉब करना चाहते हैं तो इसके लिए सिर्फ 12वीं पास जरूरी होता है लेकिन अगर आप बड़े लेवल की जॉब पाना चाहते हैं तो इसके लिए आपकी शैक्षणिक योग्यता गणित सांख्यिकी/अर्थशास्त्र के साथ डिग्री या मैट्रिकुलेशन या समकक्ष डिप्लोमा और डेंटल हाइजीनिस्ट कोर्स में सर्टिफिकेट या बी.एससी नर्सिंग की डिग्री होनी चाहिए। 

Selection Process (चयन प्रक्रिया): नगर निगम दिल्ली(एमसीडी) में आवेदक की शैक्षणिक और व्यावसायिक योग्यता के आधार पर चयन किया जाता है जोकि एमसीडी के संगठन के द्वारा संपन्न कराया जाता है। एमसीडी में मुख्य तौर पर आवेदकों का इंटरव्यू लेकर चयन किया जाता है। 

Pay Scale (वेतनमान): फिजियोथेरेपिस्ट, टीबी हेल्थ विजिटर, पब्लिक हेल्थ नर्स और ग्रेड स्टाफ के रूप में चयनित दावेदारों को 9300-34800 + 4800 ग्रेड पे के बीच वेतन दिया जाता है और अन्य शेष पदों के लिए वेतन 5200-20200 रुपये + अन्य भत्ता की सुविधाएं दी जाती है। 

नगर निगम दिल्ली(एमसीडी) जॉब के लिए आवेदन कैसे करें — How To Apply Municipal Corporation Delhi(MCD) Jobs 

  • एमसीडी में जॉब करने के लिए सबसे पहले आपको एमसीडी के आधिकारिक वेबसाइट पर जाना चाहिए जिससे आपको आने वाले नई वैकेंसी की जानकारी मिल जाएगी। 
  • एमसीडी के वेबसाइट में जो भी सूचनाएं आपको मिलती है उसे आपको ध्यान से पढ़ना चाहिए। 
  • आपके अनुरूप वैकेंसी मिलने पर आपको आवेदन प्रक्रिया शुरू कर देना चाहिए। 
  • अब आपको आवेदन करते समय अपने बारे में सभी जानकारियों को सही-सही भर देना है। 
  • इसके बाद आपको फोटो, हस्ताक्षर और आवश्यक दस्तावेज अपलोड कर देना है। 
  • सभी जानकारियों को भरने के बाद आपको सबमिट के विकल्प पर क्लिक कर देना है उसके बाद भविष्य में उपयोग के लिए आपको प्रिंटआउट भी प्राप्त कर लेना है। 

FAQs. — People Also Ask 

1- दिल्ली में कितने नगर निगम हैं?

उत्तर–  दिल्ली नगर निगम को साल 2012 में तीन नए निकाय — उत्तरी दिल्ली नगर निगम, दक्षिणी दिल्ली नगर निगम और पूर्वी दिल्ली नगर निगम द्वारा प्रतिस्थापित किया गया था।

2- दिल्ली नगर निगम को कौन नियंत्रित करता है?

उत्तर–  दिल्ली नगर निगम भारत सरकार के द्वारा चलाया जाता है जिसका देखरेख मेयर के द्वारा किया जाता है। वर्तमान समय में दिल्ली नगर निगम के मेयर रविंद्र गुप्ता जी हैं। 

3- दिल्ली नगर निगम के सबसे पहले मेयर कौन थे? 

उत्तर– दिल्ली नगर निगम में सबसे पहले पंडित त्रिलोक चंद शर्मा ने मेयर के पद पर काम किया था। 

4- मैं नगर निगम दिल्ली के बारे में शिकायत कैसे करूं?

उत्तर– दिल्ली नगर निगम के बारे में शिकायत दर्ज करने के लिए Google Play Store/Apple Store से NDMC 311 ऐप डाउनलोड करें और उसमें आप शिकायत के लिए आवेदन कर सकते हैं। 

5- एमसीडी में कितने जोन हैं?

उत्तर– पूरी एमसीडी का क्षेत्रफल 1397.3 वर्ग किलोमीटर तक फैला हुआ है जो 12 क्षेत्रों में उप-विभाजित है यानी केंद्र, दक्षिण, पश्चिम, नजफगढ़, रोहिणी, सिविल लाइंस, करोल बाग, एसपी-सिटी, केशवपुरम, नरेला, शाहदरा उत्तर और शाहदरा दक्षिण।

6- दिल्ली में कुल कितने नगर निगम है? 

उत्तर– वर्तमान में, दिल्ली में पांच नागरिक निकाय हैं – दिल्ली के उत्तर, दक्षिण और पूर्वी नगर निगम (एमसीडी), नई दिल्ली नगर परिषद (एनडीएमसी), और दिल्ली छावनी बोर्ड है। 

7- भारत में नगर निगम की संख्या कितनी है?

उत्तर– भारत में कुल नगर निगम की संख्या 247 है। 

8- दिल्ली में एमसीडी सरकार किसकी है?

उत्तर– वर्तमान में तीनो नगर निगम में भारतीय जनता पार्टी की सरकार हैं। उत्तरी दिल्ली नगर निगम, दक्षिणी दिल्ली नगर निगम और पूर्वी दिल्ली नगर निगम के चुनाव मार्च या अप्रैल 2022 में होने का अनुमान है। 

9- एमसीडी का क्या मतलब है?

उत्तर– दिल्ली नगर निगम एक शहर व नगर निगम है, जो दिल्ली के कुल नौ जिलों में कार्य करता है। यह दिल्ली में कार्य करने वाली तीन नगर पालिकाओं में से एक है और शेष दो हैं — नई दिल्ली नगर पालिका और दिल्ली छावनी बोर्ड। 

10- एमसीडी किसके अंडर में आती है?

उत्तर– एमसीडी केन्द्र सरकार के अंडर में काम करती है। 

Also Read – SBI ka Full Form In Hindi | भारतीय स्टेट बैंक के बारे में संपूर्ण जानकारी | SBI History In Hindi

निष्कर्ष — Conclusion 

आज के इस आर्टिकल में हमने MCD Full Form In Hindi और MCD से संबंधित बहुत सारे विषयों पर चर्चा किया कि MCD किसे कहते है? MCD का फुल फॉर्म क्या है? MCD क्या है? MCD को नियंत्रित कौन करता है? MCD का फुल फॉर्म इन हिंदी, MCD का पूरा नाम और MCD की शुरुआत कैसे हुई?.. 

हम उम्मीद करते हैं दोस्तों कि इन सभी सवालों का जवाब आपको इस आर्टिकल में मिल गया होगा। अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आता है तो इसे जरूर अपने दोस्तों व रिश्तेदारों के साथ शेयर करें और इस पोस्ट से संबंधित अगर आपके मन में कोई सवाल या सुझाव है तो आप कमेंट के माध्यम से अपनी बात हम तक पहुंचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *